सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया में बड़ा बदलाव
सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया में बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए सीधी भर्ती में स्क्रीनिंग टेस्ट के 75% और साक्षात्कार के 25% अंकों के आधार पर चयन करने का फैसला किया है। यह फैसला प्रतियोगी छात्रों की लंबे समय से चली आ रही मांग पर हुआ है। इससे पहले, सीधी भर्ती में साक्षात्कार के 100% अंकों के आधार पर चयन होता था।

आयोग अध्यक्ष संजय श्रीनेत ने कहा कि यह फैसला निष्पक्षता और पारदर्शिता को बढ़ावा देने के लिए लिया गया है। उन्होंने कहा कि स्क्रीनिंग टेस्ट उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता और ज्ञान का आकलन करेगा, जबकि साक्षात्कार उनके व्यक्तित्व और योग्यता का आकलन करेगा। भर्ती प्रक्रिया में पारदर्शिता का मुद्दा कई सालों से एक महत्वपूर्ण मुद्दा रहा है। उम्मीदवारों ने अक्सर चयन प्रक्रिया में पारदर्शिता की कमी के बारे में शिकायत की है, जिसने भ्रष्टाचार और पक्षपात के आरोपों का कारण बनाया है। यूपीपीएससी ने इन चिंताओं को दूर करने के लिए काम किया है और भर्ती प्रक्रिया को सुधारने के लिए कई कदम उठाए हैं।

यह फैसला उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे लाखों उम्मीदवारों के लिए एक बड़ी राहत है। इससे उन्हें साक्षात्कार में अपने प्रदर्शन पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का मौका मिलेगा।

इस फैसले के निम्नलिखित लाभ हैं:

  • यह निष्पक्षता और पारदर्शिता को बढ़ावा देगा।
  • यह उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता और ज्ञान का बेहतर आकलन करेगा।
  • यह साक्षात्कार में भेदभाव को कम करेगा।
  • यह उम्मीदवारों को साक्षात्कार में अपने प्रदर्शन पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का मौका देगा।

इस फैसले के कुछ संभावित नुकसान भी हैं:

  • यह साक्षात्कार का महत्व कम कर सकता है।
  • यह उम्मीदवारों को साक्षात्कार की तैयारी के लिए कम समय दे सकता है।

कुल मिलाकर, यह फैसला उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया में एक सकारात्मक बदलाव है। इससे चयन प्रक्रिया अधिक निष्पक्ष और पारदर्शी होगी।

विशेष रूप से, स्क्रीनिंग टेस्ट के 75% अंकों के आधार पर चयन करने से निम्नलिखित लाभ होंगे:

  • यह सुनिश्चित करेगा कि चयनित उम्मीदवारों के पास पर्याप्त शैक्षणिक योग्यता और ज्ञान है।
  • यह उम्मीदवारों के बीच प्रतिस्पर्धा को बढ़ाएगा।
  • यह साक्षात्कार में भेदभाव को कम करेगा।

साक्षात्कार के 25% अंकों के आधार पर चयन करने से निम्नलिखित लाभ होंगे:

  • यह उम्मीदवारों के व्यक्तित्व और योग्यता का आकलन करने में मदद करेगा।
  • यह चयनित उम्मीदवारों को अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने के लिए प्रेरित करेगा।

कुल मिलाकर, यह फैसला उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया को अधिक निष्पक्ष और पारदर्शी बनाने में एक महत्वपूर्ण कदम है।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) द्वारा लिया गया यह फैसला सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिए एक बड़ी राहत है। इससे उन्हें साक्षात्कार में अपने प्रदर्शन पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का मौका मिलेगा। यह फैसला निष्पक्षता और पारदर्शिता को भी बढ़ावा देगा।

Pooja Kumari

Pooja Kumari is a passionate author at Live Bharat Tak, specializing in the latest job openings, educational updates, and result announcements. With a dedication to providing accurate and timely information

Leave a Reply