Teacher Recruitment Exam: स्थगित हो सकती है झारखंड में 26 हजार शिक्षक भर्ती की परीक्षा, जानें क्या है वजह?

झारखंड में 26001 सहायक आचार्य पदों के लिए भर्ती परीक्षा का आयोजन झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (JSSC) द्वारा किया जाना है। परीक्षा की तारीखें 12 जनवरी से 31 जनवरी 2024 तक निर्धारित थीं। लेकिन झारखंड हाईकोर्ट ने दिसंबर महीने में सीटीईटी और दूसरे राज्यों से टीईटी एग्जाम क्लियर कर चुके उम्मीदवारों को भी इस भर्ती में शामिल करने का आदेश दिया है। इस आदेश के अनुसार, अब इन उम्मीदवारों को भी आवेदन करने का मौका मिलेगा और उनकी योग्यता के आधार पर चयन किया जाएगा।

इस आदेश को लागू करने में लगने वाले समय के कारण परीक्षा स्थगित होने की संभावना है। माना जा रहा है कि परीक्षा अब फरवरी के आखिरी सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह में आयोजित की जा सकती है।

झारखंड हाईकोर्ट का फैसला

हाईकोर्ट ने सीटीईटी पास अभ्यर्थी संघ व अन्य की ओर से दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि सीटेट और दूसरे राज्यों से टीईटी पास करने वाले झारखंड के अभ्यर्थी अगर शिक्षक पद पर नौकरी पाना चाहते हैं तो उन्हें तीन साल के अंदर झारखंड टीचर एजिबिलिटी टेस्ट (JTET) क्लियर करना होगा। हालांकि अगर राज्य सरकार तीन साल में जेटीईटी एग्जाम आयोजित नहीं करती है तो ये शर्त लागू नहीं होगी। कोर्ट राज्य सरकार को हर साल कम से कम एक जेटीईटी एग्जाम आयोजित करने का आदेश दिया है।

इस फैसले से पहले झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (JSSC) ने सहायक आचार्य पदों पर भर्ती के लिए 12 जनवरी से 31 जनवरी 2024 तक परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की थी। लेकिन हाईकोर्ट के फैसले के बाद अब यह परीक्षा स्थगित होने की आशंका बढ़ गई है।

परीक्षा स्थगित होने की वजह

झारखंड हाईकोर्ट के फैसले को लागू करने में समय लगेगा। इसके लिए स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग प्रारंभिक स्कूल शिक्षक नियुक्ति नियमावली में संशोधन करना होगा। इस संशोधन को कैबिनेट से पास कराना होगा। इसके बाद कार्मिक विभाग के जरिए आयोग को भेजा जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया में कम से कम एक महीने का समय लग सकता है।

इसलिए माना जा रहा है कि 12 जनवरी से परीक्षा आयोजित करना मुश्किल है। माना जा रहा है ये परीक्षा अब फरवरी के आखिरी सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह में आयोजित की जा सकती है।

परीक्षा स्थगित होने से अभ्यर्थियों को होगा नुकसान

परीक्षा स्थगित होने से अभ्यर्थियों को काफी नुकसान होगा। वे पिछले कई महीनों से इस परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। अगर परीक्षा स्थगित होती है तो उन्हें फिर से तैयारी करनी होगी। इसके अलावा, परीक्षा स्थगित होने से भर्ती प्रक्रिया में देरी होगी। इससे शिक्षकों की कमी और बढ़ जाएगी।

क्या है झारखंड हाईकोर्ट का आदेश?

झारखंड हाईकोर्ट ने सीटीईटी और पड़ोसी राज्य से टीईटी एग्जाम क्लियर कर चुके उम्मीदवारों को झारखंड में 26000 पदों पर निकली सहायक आचार्य भर्ती में शामिल करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा है कि ये उम्मीदवार झारखंड टीचर एजिबिलिटी टेस्ट (JTET) क्लियर करने के बाद ही शिक्षक पद पर नियुक्ति पा सकेंगे।

कोर्ट ने कहा है कि अगर राज्य सरकार तीन साल में जेटीईटी एग्जाम आयोजित नहीं करती है तो ये शर्त लागू नहीं होगी। कोर्ट राज्य सरकार को हर साल कम से कम एक जेटीईटी एग्जाम आयोजित करने का आदेश दिया है।

क्या है सीटीईटी और जेटीईटी?

सीटीईटी यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है। यह परीक्षा देश भर के शिक्षक पदों के लिए योग्यता निर्धारित करती है।

जेटीईटी यानी झारखंड टीचर एजिबिलिटी टेस्ट एक राज्य स्तर की परीक्षा है। यह परीक्षा झारखंड में शिक्षक पदों के लिए योग्यता निर्धारित करती है।

ये भी पढ़ें : SSC Delhi Police Constable Result 2023: दिल्ली पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2023 के रिजल्ट हुए जारी, जानिए कैसे चेक करें अपना परिणाम

झारखंड में 26 हजार शिक्षकों की भर्ती परीक्षा स्थगित होने की आशंका बढ़ गई है। इसका कारण झारखंड हाईकोर्ट का फैसला है। इस फैसले को लागू करने में समय लगेगा। इसलिए परीक्षा स्थगित होने से अभ्यर्थियों को काफी नुकसान होगा।

Pooja Kumari

Pooja Kumari is a passionate author at Live Bharat Tak, specializing in the latest job openings, educational updates, and result announcements. With a dedication to providing accurate and timely information

Leave a Reply