Chandra Grahan 2023: चंद्र ग्रहण का प्रभाव जानें ग्रहण के बाद क्या करें और क्या न करें
Chandra Grahan 2023: चंद्र ग्रहण का प्रभाव जानें ग्रहण के बाद क्या करें और क्या न करें

चंद्र ग्रहण एक प्राकृतिक घटना है जहां चंद्रमा का पृथ्वी के बीच आने से चंद्रमा का अंशिक या पूर्णता रूप में अंधकार हो जाता है। यह एक रोमांचकारी और आकर्षक घटना है जो ज्योतिषीय और आध्यात्मिक महत्व रखती है। चंद्र ग्रहण युगों से मान्यताओं, परंपराओं और बेलिफ्स के बारे में जानकारी प्रदान करता आया है।

चंद्र ग्रहण 2023 तिथि और समय

अक्टूबर 2023 में भारत में एक चंद्र ग्रहण का आयोजन होने जा रहा है। यह चंद्र ग्रहण 28 अक्टूबर को शुरू होगा और 29 अक्टूबर को समाप्त होगा। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए टाइमलाइन का उपयोग करें:

  • चंद्र ग्रहण प्रारंभ: 28 अक्टूबर, 2023, रात 1:06 AM
  • चंद्र ग्रहण समाप्ति: 28 अक्टूबर, 2023, रात 2:22 AM
  • उपच्छाया से पहला स्पर्श: 28 अक्टूबर, 2023, रात 11:32 PM
  • प्रच्छाया से पहला स्पर्श: 29 अक्टूबर, 2023, रात 1:06 AM
  • प्रच्छाया से अंतिम स्पर्श: 29 अक्टूबर, 2023, रात 2:22 AM
  • उपच्छाया से अंतिम स्पर्श: 29 अक्टूबर, 2023, सुबह 3:55 AM

चंद्र ग्रहण 2023 की तारीख और समय

चंद्र ग्रहण 2023 28 अक्टूबर को होने जा रहा है। यह चंद्र ग्रहण एक खण्डग्रास चंद्र ग्रहण होगा, जिसका शुरुआती समय 28 अक्टूबर की देर रात 1 बजकर 6 मिनट पर होगा। चंद्र ग्रहण की समाप्ति रात 2 बजकर 22 मिनट पर होगी। इस चंद्र ग्रहण का सूतक भी मान्य होगा। चंद्र ग्रहण भारत के साथ-साथ अटलांटिक महासागर, हिन्द महासागर, यूरोप, अफ्रीका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया के अधिकांश भाग और उत्तर अमेरिका में दिखाई देगा।

चंद्र ग्रहण का महत्व

चंद्र ग्रहण हिन्दू परंपरा में एक महत्वपूर्ण और पवित्र घटना माना जाता है। इसे धार्मिक और ज्योतिषीय दृष्टिकोण से बहुत महत्व दिया जाता है। चंद्र ग्रहण के दौरान, आकाश में विभिन्न ग्रहों की स्थिति में परिवर्तन होता है जो मान्यताओं और प्रचलित धार्मिक विश्वासों के साथ जुड़ा होता है। इसलिए, लोग चंद्र ग्रहण को ध्यान में रखते हैं और इसके समय विशेष उपायों को अपनाते हैं।

चंद्र ग्रहण के प्रभाव

चंद्र ग्रहण के समय विभिन्न धार्मिक और ज्योतिषीय मान्यताएं हैं जो इसके प्रभाव को बताती हैं। यह माना जाता है कि चंद्र ग्रहण के समय बुरे प्रभावों से सुरक्षा के लिए कुछ सावधानियां अपनाई जानी चाहिए। इस समय लोग प्रार्थना, मंत्र जाप, और ध्यान आदि करके प्रभावों से बचने का प्रयास करते हैं। इसके अलावा, चंद्र ग्रहण के समय चंद्र देव के मंत्र का जाप करने का भी महत्व है।

ग्रहण के बाद क्या करें:

  • गंगाजल से स्नान करें: ग्रहण के बाद पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करें और स्नान करें। इससे ग्रहण का अशुद्ध प्रभाव दूर होता है।
  • पूजा-अर्चना करें: ग्रहण के बाद भगवान की पूजा-अर्चना करें। इससे ग्रहण का बुरा प्रभाव दूर होता है और आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • दान करें: ग्रहण के बाद जरूरतमंद लोगों को दान करें। इससे पुण्य प्राप्त होता है और ग्रहण का बुरा प्रभाव दूर होता है।

ग्रहण के बाद क्या न करें:

  • ग्रहण के दौरान खाना या पीना न खाएं: ग्रहण के दौरान खाना या पीना न खाएं। ऐसा माना जाता है कि इससे ग्रहण का बुरा प्रभाव पड़ सकता है।
  • ग्रहण के दौरान यात्रा न करें: ग्रहण के दौरान यात्रा न करें। ऐसा माना जाता है कि इससे दुर्घटना या हानि हो सकती है।
  • ग्रहण के दौरान कोई नया काम न करें: ग्रहण के दौरान कोई नया काम न करें। ऐसा माना जाता है कि इससे सफलता में बाधा आ सकती है।

इन बातों का ध्यान रखकर आप ग्रहण के बाद के प्रभाव से बच सकते हैं और अपने जीवन में सकारात्मकता ला सकते हैं।

Pooja Kumari

Pooja Kumari is a passionate author at Live Bharat Tak, specializing in the latest job openings, educational updates, and result announcements. With a dedication to providing accurate and timely information

Leave a Reply