Cyber Fraud: 5 रुपये की हैंडलिंग फीस के चक्कर में महिला के खाते से उड़ गए 80,000 रुपये
Cyber Fraud: 5 रुपये की हैंडलिंग फीस के चक्कर में महिला के खाते से उड़ गए 80,000 रुपये

साइबर फ्रॉड एक तकनीकी दुनिया में हमेशा से एक बड़ी समस्या रही है। इसके जरिए स्कैमर्स विभिन्न तरीकों से लोगों को धोखा देते हैं, और उनके पैसे चुरा लेते हैं। एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसमें एक महिला ने केवल 5 रुपये के भुगतान के चक्कर में 80,000 रुपये गंवा दिए। यह हादसा दिखाता है कि जितना छोटा भी भुगतान हो, सावधानी से ही करना चाहिए।

महिला के साथ हुआ साइबर फ्रॉड

व्यावसायिक और व्यक्तिगत उद्देश्यों के लिए लोगों का डेटा ऑनलाइन भंडारण किया जाता है। वहां तक पहुंचकर, यह डेटा स्कैमर्स को संपर्क करने और उन्हें धोखा देने के लिए उपयोग किया जा सकता है। उन्होंने इस महिला के खाते से 80,000 रुपये चुरा लिए। इस हादसे के बाद, एक महिला ने आम लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया है ताकि वे इस तरह के ठगी के शिकार न बनें।

ये भी पढ़ें: 20,000 का डिस्काउंट! 200 किलोमीटर की रेंज वाला इलेक्ट्रिक स्कूटर अब सिर्फ 95,000 में

ऑनलाइन डिलीवरी में हुआ स्कैम

महिला ने ऑनलाइन सामान खरीदने का ऑर्डर किया और प्रोडक्ट की डिलीवरी का इंतजार कर रही थी। उसे एक मैसेज मिला जिसमें लिखा था कि उसका पार्सल रेडी है, लेकिन उसे 5 रुपये की हैंडलिंग शुल्क देना होगा। मैसेज पढ़ते ही महिला ने 5 रुपये का भुगतान कर दिया। इस प्रक्रिया में, उसके बैंक अकाउंट से 80,000 रुपये उड़ गए। यहां एक बड़ा सवाल उठता है कि क्या हो जब छोटी भुगतान की प्रक्रिया अनियमित रूप से होती है और उससे बड़े नुकसान होते हैं।

कैसे होती है ये ठगी?

स्कैमर्स का मुख्य धंधा होता है लोगों का डेटा चोरी करना और उन्हें ठगने की कोशिश करना। इसके लिए वे विभिन्न तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं, जैसे कि डार्क वेब से डेटा खरीदना, सोशल मीडिया प्रोफाइल और व्हाइट पेज डायरेक्ट्रीज का उपयोग करना।

ये भी पढ़ें: Dhanteras Gold Price: सोने का भाव 2023 में 50,500 से बढ़कर 2024 में 70,000 तक पहुंचने का अनुमान

सुरक्षित रहने के उपाय

  • जांच-पड़ताल: किसी भी पेमेंट से पहले, कॉलर की पहचान को वेरिफाई करें और अनाम लिंक पर क्लिक न करें।
  • बैंक डिटेल्स की जांच: अपनी बैंक डिटेल्स को नियमित रूप से रिव्यू करें और अनधिकृत लेनदेन की निगरानी करें।
  • सिक्योरिटी सॉफ्टवेयर का उपयोग: अपनी डिवाइसेज पर एंटीवायरस और एंटी-मैलवेयर सॉफ्टवेयर को अपडेट करें।

इस प्रकार, सावधानी से और सुरक्षा के साथ ही ऑनलाइन लेन-देन करना बेहद जरूरी है। छोटी भुगतानों पर भी सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि यह बड़े नुकसानों का कारण बन सकती है।

Basant Kumar

I'm Basant Kumar, the tech enthusiast driving Live Bharat Tak. I dive into the latest digital innovations, dissecting gadgets like mobiles, laptops, and tablets to offer insightful reviews.

Leave a Reply